Tuesday, February 19, 2008

बाल कृष्ण की आरती

॥ श्री कृष्ण : ॥

आरती बाल कृष्ण की कीजे, अपनौ जनम सफल कर लीजे ,
आरती बाल कृष्ण की कीजे, अपनौ जनम सफल कर लीजे ।

श्री यशुदा कौ परम दुलारो, बाबा की अँखियाँ कौ तारौ ,
गोपिन के प्राणन कौ प्यारौ, इन पै प्राण निछावर कीजे ।
आरती बाल कृष्ण की कीजे, अपनौ जनम सफल कर लीजे ।

बलदाऊ कौ छोटो भैया, कनुआ कह कह बोलत मैया ,
परम मुदित मन लेत बलिया, यह छवि नैनं में भर लीजे ।
आरती बाल कृष्ण की कीजे, अपनौ जनम सफल कर लीजे ।

श्री राधावर सुघर कन्हैया, बृज जन कौ नवनीत खिवैया ,
देखत ही मन लेत चुरैया, अपनौ सर्वस इन को दीजे ।
आरती बाल कृष्ण की कीजे, अपनौ जनम सफल कर लीजे ।

तोतर बोलत मधुर सुहावे, सखन मध्य खेलत सुख पावे ,
सोई सुकृति जो इनको ध्यावे , अब इनकू अपनौ कर लीजे ।

आरती बाल कृष्ण की कीजे, अपनौ जनम सफल कर लीजे ।
आरती बाल कृष्ण की कीजे, अपनौ जनम सफल कर लीजे ।



1 comments:

maze said...

there is a typo in line 3.